पीपीएफ - पब्लिक प्रोविडेंट फंड

पीपीएफ योजना को 1968 में वित्त मंत्री के राष्ट्रीय बचत संस्थान द्वारा शुरू किया गया था। पीपीएफ योजना का मुख्य उद्देश्य, छोटी-मोटी बचत करने में लोगों की मदद करना और उनकी बचत राशि पर रिटर्न देना है। पीपीएफ योजना पर आकर्षक इंटरेस्ट मिलता है और इस इंटरेस्ट से जनरेट होने वाले रिटर्न पर कोई टैक्स भी नहीं लगता है।

पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए योग्यता सम्बन्धी मानदंड

एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए निम्नलिखित योग्यता सम्बन्धी मानदंडों को पूरा करना पड़ता है:

  • एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए भारत का नागरिक होना जरूरी है।
  • एक व्यक्ति अपने नाम से सिर्फ एक अकाउंट खोल सकता है। लेकिन, एक व्यक्ति एक नाबालिग की तरफ से दूसरा अकाउंट भी खोल सकता है।
  • गैर निवासी भारतीयों (NRI) और हिन्दू अविभाजित परिवारों (HUF) को एक पीपीएफ अकाउंट खोलने की इजाजत नहीं है।

एक पीपीएफ अकाउंट खोलने का तरीका क्या है?

एक पीपीएफ अकाउंट किसी बैंक या पोस्ट ऑफिस में खोला जा सकता है। इससे पहले, सिर्फ नेशनलाइज्ड बैंकों में ही पीपीएफ अकाउंट खोलने की इजाजत थी, लेकिन अब एक्सिस, एचडीएफसी, और आईसीआईसीआई बैंक जैसे प्राइवेट बैंकों में भी पीपीएफ अकाउंट खोला जा सकता है। एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है:

  • इसके लिए एक आवेदन फॉर्म सबमिट करना जरूरी होता है।
  • इसके अलावा, आधार कार्ड, पैन (परमानेंट अकाउंट नंबर) कार्ड, पासपोर्ट जैसे पहचान प्रमाण भी सबमिट करने पड़ते हैं।
  • पता प्रमाण भी सबमिट करना होता है जिसमें वर्तमान पता का जिक्र रहना चाहिए।
  • हस्ताक्षर का प्रमाण।

उपरोक्त दस्तावेज सबमिट करने के बाद, एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक अमाउंट डिपोजिट किया जा सकता है।

एक पीपीएफ अकाउंट की विशेषताएं

पीपीएफ अकाउंट की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • अकाउंट की समय अवधि : एक पीपीएफ अकाउंट की न्यूनतम समय अवधि 15 साल होती है। लेकिन, अकाउंट होल्डर्स अपने अकाउंट की समय अवधि को और 5 साल के लिए बढ़ा सकते हैं।
  • एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक अमाउंट : एक पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए 100 रुपये लगते हैं। इस अकाउंट में एक साल में5 लाख रुपये से ज्यादा पैसे इन्वेस्ट करने पर, एक्स्ट्रा इन्वेस्टमेंट अमाउंट पर न तो कोई इंटरेस्ट मिलता है और न ही कोई टैक्स डिडक्शन बेनिफिट ही मिलता है।
  • पैसे डिपोजिट करने के तरीके : पीपीएफ अकाउंट में पीएफ ट्रांसफर ऑनलाइन, डिमांड ड्राफ्ट, चेक, या कैश के माध्यम से इन्वेस्ट किया जा सकता है।
  • कितने अकाउंट खोले जा सकते हैं : एक व्यक्ति अपने नाम से सिर्फ एक पीपीएफ अकाउंट खोल सकता है। पीपीएफ योजना के तहत, जॉइंट अकाउंट नहीं खोला जा सकता है।
  • मिनिमम और मैक्सिमम अमाउंट : इसमें एक वित्तीय वर्ष में कम-से-कम 500 रुपये और अधिक-से-अधिक5 लाख रुपये इन्वेस्ट किया जा सकता है। पीपीएफ अकाउंट में एक लम्प सम या इंस्टालमेंट में इन्वेस्टमेंट किया जा सकता है। इसमें अधिक-से-अधिक 12 इंस्टालमेंट में इन्वेस्टमेंट किया जा सकता है।
  • डिपोजिट की बारंबारता : इसमें 15 साल तक, साल में कम-से-कम एक बार, डिपोजिट या इन्वेस्टमेंट करना जरूरी है।
  • एक पीपीएफ अकाउंट खोलना कितना सुरक्षित है : एक पीपीएफ अकाउंट, भारत सरकार द्वारा समर्थित होने के कारण रिस्क-फ्री, गारंटीड रिटर्न, और कैपिटल प्रोटेक्शन देता है। इसलिए, एक पीपीएफ अकाउंट खोलने में मामूली रिस्क होता है।
  • एक पीपीएफ अकाउंट के बदले लोन : पीपीएफ अकाउंट खोलने की तारीख से तीसरे और पांचवें वित्तीय वर्ष के बीच, इस अकाउंट के बदले पीपीएफ लोन लिया जा सकता है। पीपीएफ अकाउंट के बदले मिलने वाले लोन के रूप में, दूसरे वित्तीय वर्ष के अंत में किए गए इन्वेस्टमेंट का 25% तक लोन मिल सकता है। छठे वित्तीय वर्ष के बाद भी इस अकाउंट के बदले लोन लिया जा सकता है। लेकिन, दूसरा लोन लेने से पहले, पहला लोन पूरी तरह चुका देना होगा।

पीपीएफ इंटरेस्ट रेट

वर्तमान में, पीपीएफ इंटरेस्ट रेट को 7.9% से घटाकर 7.1% कर दिया गया है और उसे वार्षिक आधार पर चक्रवृद्धि किया जाता है। इंटरेस्ट का पेमेंट, 31 मार्च को किया जाता है और पीपीएफ इंटरेस्ट रेट, वार्षिक आधार पर वित्त मंत्री द्वारा निर्धारित किया जाता है। इंटरेस्ट का कैलकुलेशन, महीने के पांचवें दिन के समापन और अंतिम दिन के बीच मौजूद मिनिमम बैलेंस के आधार पर किया जाता है।

पीपीएफ टैक्स बेनिफिट

पीपीएफ अकाउंट में किया जाने वाला इन्वेस्टमेंट, छूट-छूट-छूट (EEE) केटेगरी में आता है। इसलिए, पीपीएफ अकाउंट में किए गए इन्वेस्टमेंट पर, इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत, टैक्स छूट मिलती है। पीपीएफ अकाउंट में इन्वेस्ट किए गए अमाउंट के साथ-साथ उस पर मिलने वाले इंटरेस्ट अमाउंट को निकालने पर उन पर कोई टैक्स नहीं लगता है।

पीपीएफ अकाउंट को समय से पहले बंद करने पर क्या होता है

5 साल पूरा होने के बाद इसे समय से पहले बंद करने का विकल्प चुना जा सकता है। लेकिन, सिर्फ पीपीएफ अकाउंट होल्डर, उसके माता-पिता, बच्चों, या पति/पत्नी के जीवन को नुकसान पहुंचा सकने वाली बीमारियों के इलाज के लिए इसे समय से पहले बंद करने की इजाजत दी जाती है। जिसके लिए, एक निपुण चिकित्सा प्राधिकारी के दस्तावेज सबमिट करने होंगे।

इसके अलावा, नाबालिग अकाउंट होल्डर की ऊंची शिक्षा या अकाउंट होल्डर के लिए ऊंची शिक्षा के लिए भी इसे समय से पहले बंद करने की इजाजत दी जाती है। लेकिन, इसके लिए भारत या विदेश में एक मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी का फीस बिल और एडमिशन कन्फर्मेशन जैसे दस्तावेज सबमिट करने होंगे।

पीपीएफ के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

  1. क्या मैं अपने नाम से 2 या उससे अधिक अकाउंट खोलकर पीपीएफ योजना के तहत अपने इन्वेस्टमेंट को बढ़ा सकता / सकती हूँ ?

    नहीं। पब्लिक प्रोविडेंट फंड योजना के तहत, एक व्यक्ति अपने नाम से सिर्फ एक अकाउंट ही खोल और चला सकता है।

  2. क्या मैं एक इनएक्टिव अकाउंट का इस्तेमाल जारी रख सकता / सकती हूँ ?

    हाँ। आप होल्डिंग ब्रांच को, जितने साल तक अकाउंट इनएक्टिव था उतने साल के लिए 50 रुपये प्रति वर्ष की दर से पेनाल्टी देकर ऐसा कर सकते हैं। इसके अलावा, आपको हर उस साल के लिए कम-से-कम 500 रुपये प्रति वर्ष की दर से इन्वेस्टमेंट करने के साथ-साथ उस साल के लिए भी कम-से-कम 500 रुपये इन्वेस्ट करना होगा जितने साल तक अकाउंट इनएक्टिव था और जिस साल के लिए आप उस अकाउंट को फिर एक्टिवेट कर रहे/रही हैं।

  3. क्या मुझे अपने इनएक्टिव अकाउंट पर इंटरेस्ट मिलता रहेगा ?

    नहीं। उन सालों के लिए इंटरेस्ट नहीं मिलेगा जिन सालों तक अकाउंट इनएक्टिव था। अकाउंट फिर से एक्टिव होने के बाद, उस समय मौजूद बैलेंस के आधार पर इंटरेस्ट दिया जाएगा।

  4. यदि मैं अपने नाबालिग बच्चे / बच्ची के नाम से एक पीपीएफ अकाउंट खोलता / खोलती हूँ तो क्या मैं टैक्स फ़ाइल करते समय दोनों अकाउंट यानी अपने अकाउंट के साथ - साथ अपने बच्चे के अकाउंट पर भी टैक्स डिडक्शन के लिए क्लेम कर सकता / सकती हूँ ?

    आप अपने अकाउंट, अपने नाबालिग बच्चे/बच्ची के अकाउंट और/या अपने पति/पत्नी के अकाउंट पर, सामूहिक रूप से, अधिक-से-अधिक 1.5 लाख रुपये तक के इन्वेस्टमेंट पर टैक्स डिडक्शन के लिए क्लेम कर सकते/सकती हैं। क्योंकि इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत अधिक-से-अधिक 1.5 लाख रुपये तक का ही टैक्स डिडक्शन बेनिफिट मिलता है। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने अकाउंट में 1 लाख रुपये और अपने बच्चे/बच्ची के अकाउंट में 1 लाख रुपये इन्वेस्ट करते हैं तो आप सिर्फ 1.5 लाख रुपये पर टैक्स डिडक्शन के लिए क्लेम कर सकते हैं, न कि 2 लाख रुपये पर।

  5. 5 लाख रुपये से ज्यादा इन्वेस्ट करने पर क्या होगा ?

    1.5 लाख रुपये से ज्यादा इन्वेस्ट करने पर सिर्फ 1.5 लाख रुपये पर ही इंटरेस्ट मिलेगा। क्योंकि मैक्सिमम एनुअल इन्वेस्टमेंट लिमिट यानी 1.5 लाख रुपये प्रति वर्ष के आधार पर पीपीएफ इंटरेस्ट कैलकुलेशन किया जाता है।

  6. 2014 के दौरान इस लिमिट को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया गया था। यदि इस साल भी इसी तरह लिमिट बढ़ा दिया जाता है तो मैं एक्स्ट्रा इन्वेस्टमेंट कैसे करूंगा / करूंगी ? क्या मुझे अगले साल तक इंतजार करना होगा ?

    जब एक वित्तीय वर्ष के दौरान लिमिट को बढ़ाया जाता है तब बैंक और पोस्ट ऑफिस को एक्स्ट्रा इन्वेस्टमेंट स्वीकार करने का निर्देश दिया जाता है यदि इन्वेस्टर, संशोधित मैक्सिमम लिमिट तक इन्वेस्ट करना चाहते/चाहती हैं। पिछली बार उन लोगों के साथ भी यही हुआ था जो संशोधित लिमिट के तहत 1.5 लाख रुपये तक इन्वेस्ट करना चाहते थे।

  7. इंटरेस्ट का कैलकुलेशन कैसे किया जाता है ? मुझे पिछले साल 12 महीने के बजाय 11 महीने का ही इंटरेस्ट मिला।

    किसी भी महीने के लिए इंटरेस्ट का कैलकुलेशन करते समय उस महीने की 5 तारीख या उससे पहले किए गए इन्वेस्टमेंट को ध्यान में रखा जाता है। महीने की 5 तारीख के बाद से लेकर महीने के अंत तक किए गए इन्वेस्टमेंट को अगले महीने के इंटरेस्ट कैलकुलेशन में शामिल किया जाता है।

    उदाहरण के लिए, मान लीजिए, एक अकाउंट में सितम्बर की शुरुआत में 1 लाख रुपये थे। अकाउंट होल्डर ने उसमें 50,000 रुपये इन्वेस्ट करने का फैसला किया। उसने इसे 10 सितम्बर को इन्वेस्ट किया। इस मामले में, 5 सितम्बर को बैलेंस 1 लाख रुपये थे और महीने के अंत में 1.5 लाख रुपये थे। सितम्बर महीने का इंटरेस्ट कैलकुलेट करते समय 1 लाख रुपये को ध्यान में रखा जाएगा। 50,000 रुपये के एक्स्ट्रा इन्वेस्टमेंट को अक्टूबर महीने का इंटरेस्ट कैलकुलेट करते समय ध्यान में रखा जाएगा।

    यदि अकाउंट होल्डर ने 50,000 रुपये का यह एक्स्ट्रा इन्वेस्टमेंट 3 सितम्बर को किया होता तो 5 सितम्बर को बैलेंस 1.5 लाख रुपये होते। यह सितंबर महीने के लिए इंटरेस्ट कैलकुलेट करते समय विचार की गई राशि होती।

  8. मैं अपने पोते / पोती के लिए कुछ इन्वेस्टमेंट करना चाहता / चाहती हूँ ? क्या मैं उसकी तरफ से पीपीएफ अकाउंट खोल सकता / सकती हूँ ?

    नहीं। दादा-दादी अपने पोते-पोतियों के नाम से पीपीएफ अकाउंट नहीं खोल सकते। आप यह पैसा उसके माता/पिता या अभिभावक को दे सकते हैं जो अपने नाबालिग बच्चे/बच्ची के नाम से अकाउंट खोल और चला सकते हैं। लेकिन, यदि नाबालिग बच्चे/बच्ची के दोनों माता-पिता की मौत हो जाय तो दादा-दादी उस नाबालिग बच्चे/बच्ची के अभिभावक के रूप में उसके लिए एक पीपीएफ अकाउंट खोल और चला सकते हैं।

  9. क्या 15 साल बाद पीपीएफ अकाउंट से सारा पैसा निकालना जरूरी है ?

    नहीं। मैच्योरिटी के समय अकाउंट से सारा पैसा निकालना जरूरी नहीं है। इन्वेस्टर जब तक उस अकाउंट को चलाना चाहे, वह तब तक उस अकाउंट को चालू रख या बढ़ा सकता है। अकाउंट को हर बार 5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। कुछ इन्वेस्टमेंट करके या इन्वेस्ट किए बिना भी अकाउंट को बढ़ाया जा सकता है।

  10. क्या 15 साल बाद मैच्योरिटी पीरियड बढ़ाने पर भी मुझे अपने अकाउंट पर इंटरेस्ट मिलता रहेगा ?

    हाँ। एक्सटेंशन पीरियड के दौरान प्रचलित इंटरेस्ट रेट्स के आधार पर इंटरेस्ट का कैलकुलेशन और पेमेंट किया जाएगा। एक्सटेंशन पीरियड के दौरान कोई फ्रेश इन्वेस्टमेंट न करने पर, 15वें साल के अंत में अकाउंट में मौजूद बैलेंस के आधार पर, इंटरेस्ट कैलकुलेट किया जाएगा। यदि अकाउंट की समय अवधि बढ़ाने के लिए फ्रेश इन्वेस्टमेंट किया गया है तो उसे 15वें साल के अंत में बैलेंस में जोड़ दिया जाएगा और टोटल अमाउंट को प्रिंसिपल अमाउंट मानकर उस पर इंटरेस्ट कैलकुलेट किया जाएगा।

बौद्धिक संपदा के किसी भी ट्रेडमार्क, व्यापारिक नाम, लोगो और अन्य विषय के प्रदर्शन उनके संबंधित बौद्धिक संपदा मालिकों के हैं। संबंधित उत्पाद जानकारी के साथ इस तरह के आईपी का प्रदर्शन बौद्धिक संपदा या इस तरह के उत्पादों के निर्माता के साथ बैंकबाजार की साझेदारी का मतलब नहीं है।

reTH65gcmBgCJ7k
This Page is BLOCKED as it is using Iframes.